UPPCS RO/ARO EXAM PATTERN (PRE+MAINS SYLLABUS)

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी की परीक्षा दो चरणों में आयोजित होती है. प्रथम चरण यानि प्रारंभिक परीक्षा तथा द्वितीय चरण यानि मुख्य परीक्षा. इसमें साक्षात्कार नहीं होता है.

अहर्ताएं — अभ्यर्थी को कम से कम स्नातक होना अनिवार्य है इसके अलावा कुछ विशेष पदों के लिए अलग अलग योग्यताओं की मांग होती है जैसे – !

आयु सीमा – इन पदों के लिए न्यूनतम आयुसीमा 21 वर्ष तय की गयी है ! सामान्य जाति के अभ्यर्थी अधिकतम 40 वर्ष तक , OBC / SC / ST अभ्यर्थी अधिकतम 45 वर्ष तक और शारीरिक दिव्यांग व्यक्ति अधिकतम 55 वर्ष तक फॉर्म डाल सकते हैं !

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने 2018 का कलेंडर जारी कर दिया है जिसमे समीक्षा अधिकारी/ सहायक समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा 8 अप्रैल 2018 को आयोजित करायेगा.

समीक्षा अधिकारी / सहायक समीक्षा अधिकारी के पिछले साल का विज्ञापन देखें 

समीक्षा अधिकारी / सहायक समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा का एग्जाम पैटर्न

प्रारंभिक परीक्षा 200 अंको की होती है जिसमे दो पेपर होते हैं-

प्रथम प्रश्नपत्र-सामान्य अध्ययन का होता है जिसमें 140 प्रश्न 140 अंको के होते हैं.

द्वितीय प्रश्न पत्र – सामान्य हिंदी का होता है जिसमें 60 प्रश्न 60 अंको के होते हैं.

समयावधि- प्रथम प्रश्नपत्र के लिये समय 2.00 घंटे का होता है तथा द्वितीय प्रश्न पत्रके लिए समय 1.00 घंटे का होता है.

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी का पाठ्यक्रम-

प्रथम प्रश्नपत्र-सामान्य अध्ययन(General studies)

सामान्य अध्ययन में निम्नलिखित बिन्दुओं से प्रश्न पूछे जाते हैं.

  1. सामान्य विज्ञान
  2. भारत का इतिहास
  3. भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन
  4. भारतीय राजव्यवस्था, अर्थव्यवस्था और संस्कृति
  5. भारतीय कृषि, वाणिज्य और व्यापार
  6. जनसंख्या, पारिस्थिकी और नगरीकरण(भारत के सन्दर्भ में)
  7. विश्वभूगोल और भारत का भूगोल तथा प्राकृतिक श्रोत
  8. समसामयिक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्वपूर्ण ख़बरें
  9. सामान्य बुद्धि परीक्षण
  10. उत्तर प्रदेश की शिक्षा, संस्कृति, कृषि, उद्योग, व्यापार, रहन-सहन और सामाजिक परम्परा की विशेष जानकारी

सामान्य विज्ञान-  

इसके अंतर्गत विज्ञान की समझ के प्रश्न पूछे जायेंगें. जिसमे हर रोज के अवलोकन और अनुभव के मामले शामिल होंगें. जैसा की एक शिक्षित व्यक्ति से उम्मीद की जा सकती है जिसने कभी भी वैज्ञानिक अनुशासन का विशेष अध्ययन नही किया है.

भारत का इतिहास-

भारतीय इतिहास के आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक पहलुओं की व्यापक समझ पर होना चाहिए.


समसामायिक मुद्दे- 

प्रश्न भारतीय वर्तमान घटनाओं, सामान्य विज्ञान, सामान्य ज्ञान से पूछा जाएगा। फोकस मुख्य रूप से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय समाचार के वर्तमान मामलों, महत्वपूर्ण तिथियां, वर्तमान विज्ञान, प्रौद्योगिकी, खेल और संस्कृति पर होगा।

भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन-

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में, उम्मीदवारों से उम्मीद है कि वे भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन, राष्ट्रवाद के विकास और स्वतंत्रता की प्राप्ति के स्वरूप और चरित्र के बारे में एक संक्षिप्त दृष्टिकोण देखें।

भारतीय अर्थव्यवस्था और राजव्यवस्था-

भारतीय नीति और अर्थव्यवस्था में, प्रश्न भारतीय संविधान सहित भारतीय संविधान से संबंधित उम्मीदवारों के ज्ञान का परीक्षण करेंगे। पंचायती राज और सामुदायिक विकास, भारतीय अर्थव्यवस्था और योजना की व्यापक विशेषताएं

विश्व भूगोल और जनसंख्या-

विश्व के भूगोल और आबादी में, इस विषय के बारे में केवल सामान्य समझ की उम्मीद भारत के भूगोल के भौतिक / पारिस्थितिक, आर्थिक और सामाजिक-जनसांख्यिकीय पहलुओं पर जोर देने के साथ की जाएगी।

प्रश्नपत्र द्वितीय-सामान्य हिंदी(60 अंक)

  1. विलोम (10 प्रश्न)
  2. वाक्य शुद्धिकरण (10 प्रश्न)
  3. अनेक शब्दों के लिये एक शब्द(10 प्रश्न)
  4. समानार्थी शब्द (10 प्रश्न)
  5. समान उपयोग और एक ही प्रकृति शब्द (10 प्रश्न)
  6. विशेषण और विशेषण के द्वारा परिभाषित  संज्ञा (10 प्रश्न)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *